श्रीमत् भगवत् गीता (हिंदी पद्य अनुवाद) / Shrimat Bhagvat Gita (Hindi Poetic Translation)

Front Cover
Ritesh Singh
23 Reviews
 

What people are saying - Write a review

User ratings

5 stars
23
4 stars
0
3 stars
0
2 stars
0
1 star
0

User Review - Flag as inappropriate

uttam prayaas hai yh Prabhu ki vaani gaane kaa
.parthsarthi ki vaani ko jan jan tak pahunchaane kaa .

User Review - Flag as inappropriate

tn

All 10 reviews »

Common terms and phrases

० इति १० १३ १४ १६ १७ १८ १९ १प अग्नि अता अति अन्य अर्जुन अर्जुन उवाच अर्थ आत्म आत्मा आदि इस उस एक और कर करता करते करने कर्म कहा का कि किया की कुछ के के लिए को कौ गुण गुना गोता चुत जन्म जानता जी जीब जो ज्ञान तथा तन तप तब तरह तव तीन तु तुम तो त्याग दिया देख देह धर्म धृतराष्ट्र नर नष्ट नहि नहिं नहीं निज नित्य ने परम पाता पाथ पाप पार्थ पुरुष प्रकृति प्राणि प्राणियों प्राप्त हो प्रिय फल बुद्धि भाव भी मन मम महा मुझको मुझमें मुझे में मैं यज्ञ यदि यर यह यहा यहाँ यहीं या योग योगी रहित रूप लगे वह वहीँ विष्णु वे वेद श्री भरावानुवाच सदा सब सभी सभो सर्ब सुख से हि हित ही हुआ हुए हूँ हेतु है होता होते होने से

Bibliographic information