Khattar Kaka

Front Cover
Rajkamal Prakashan Pvt Ltd, Sep 1, 2007 - 199 pages
6 Reviews
 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

kripaya mughe KAHTTER KAKA ki book chhahiya.mera mobile no.9532188564 hai.es per sabhi jankari deve.mobile per ane wala expenditure mai vahvan karuga.

User Review - Flag as inappropriate

आधुनिक मैथिली साहित्यक ई अनुपम कृति थिक | श्री हरिमोहन झा एही पोथी मे मिथिला क दैनिक जीवन के सहज हास्य बड निक स परोसने छैथ |

All 6 reviews »

Contents

Section 1
4
Section 2
5
Section 3
7
Section 4
11
Section 5
13
Section 6
19
Section 7
36
Section 8
94
Section 9
105
Section 10
115
Section 11
122
Section 12
138
Section 13
146
Section 14
183
Section 15
192

Other editions - View all

Common terms and phrases

अजी अपना अपनी अपने अब अभी अर्थ अर्थात् आप इस इसलिए इसी उनकी उनके उन्हें उस उसी उसे ऋग्वेद एक ऐसा ऐसी और कर करते हैं करने कहते कहा कहीं का कारण कि की तरह कुछ के लिए केसे को कोई क्या क्यों क्रिया खट्टर काका गया है गयी गये गये हैं गीता जाता है जाती जाते हैं जाय जैसे जो तक तब तव तो था थे दिन दिया देखकर देखो देते हैं देवता देश दोनों धर्म धर्मशास्त्र नक्षत्र नहीं नहीं है ने पंडितजी पति पर पुराण प्रकार फिर बने बया बात बी भगवान भी भी तो में में भी मैं मैं-खट्टर काका मैंने कहा-खट्टर काका मोक्ष यदि यम यया यल यह यहीं या ये रह रहते रहे हैं राजा लगे ले लेकर लेकिन लोग लोगों वह विना विष्णु वे वेद सब सभी समय साथ सीता से सो ही हुआ हुई हुए हो होकर होता है होती

Bibliographic information