Kranti Sutra : Sakshi Bhav

Front Cover
Diamond Pocket Books (P) Ltd. - 176 pages
1 Review
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Selected pages

Contents

Section 1
2
Section 2
4
Section 3
5
Section 4
7
Section 5
26
Section 6
46
Section 7
60
Section 8
89
Section 9
136
Section 10
157
Section 11
171
Section 12
172
Section 13
173
Section 14
176
Section 15
177

Common terms and phrases

अगर अपने अब अभी आदमी आप इतना इस इसलिए उनके उपनिषद उस उसके उसने उसे एक एल और कभी कर रहे करते करने कहते का का अर्थ किया किसी की कुछ के के लिए को क्योंकि गयी गये चाहिए छाई जब जहाँ जा जाए जाता है जाती जाते जाना जीवन जैसे जो तक तब तरफ तरह तुम तुमने तो था थी थे दिन दिया दुख दे दो नही नहीं है नाम ने कहा पकी पता पर परमात्मा पास पैदा फिर बन बना बने बया बल बहुत बात बाहर बुद्ध भी भीतर मगर मत मन मुझे मृत्यु में मेरे मैं मैने यब यया यल यह ये रह रहा है रही रहे राम रे लिया लेकिन वने वया वह वही वे शब्द शरीर सत्य सब साथ सिर्फ सुकरात से हम ही नहीं हुआ हुए है और है कि हैं हो गया हो जाता है होगा होता है होती होते होने

Bibliographic information