Prachin Bharat Ka Itihas (in Hindi)

Front Cover
Atlantic Publishers & Dist, Jan 1, 2005 - 416 pages
10 Reviews
 

What people are saying - Write a review

User ratings

5 stars
5
4 stars
3
3 stars
0
2 stars
0
1 star
0

User Review - Flag as inappropriate

awesome book for upsc

User Review - Flag as inappropriate

wow

All 10 reviews »

Contents

Section 1
1
Section 2
19
Section 3
37
Section 4
62
Section 5
83
Section 6
84
Section 7
112
Section 8
123
Section 11
226
Section 12
279
Section 13
289
Section 14
358
Section 15
401
Section 16
402
Section 17
403
Section 18
404

Section 9
161
Section 10
175
Section 19
406
Section 20
407

Common terms and phrases

अधिक अनेक अन्य अपनी अपने अभिलेख अर्थशास्त्र अशोक आदि इतिहास इन इम इस इसका इसके इसमें इसी उत्तर उनके उपनिषद उसका उसके उसने उसे एव एवं और कर करता करना करने कला कहा गया है का उल्लेख कारण काल में किन्तु किया किया गया किया जाता था किया है की कुछ के अनुसार के रूप में के लिए को क्षेत्र गई गुजरात गुप्त चन्द्रगुप्त चीन जा जाता है जाती जाने जी जैन जैन धर्म तक तथा तो थी थे दक्षिण दिया द्वारा धर्म नहीं नाम नामक ने पथम पर पवार प्रकार प्राप्त बहुत बुद्ध भाग भारतीय भी मल माना मिलता है मिलती में में भी यर यह यहाँ या युग ये राजा राज्य लिया वह विकास वे व्यवस्था शासक शासन शिव श्री श्रेय समय समुद्रगुप्त सातवाहन से स्थान स्थित ही हुआ हुआ है हुई हुए है कि हैं हो होता था होता है होती होते होने

Bibliographic information