विदशी रानी: ऐतिहासिक कहानी-संग्रह

Front Cover
Suruchi Prakashan, Jul 1, 2013 - History - 284 pages
0 Reviews

The way author of the book has presented the history touches the heart. The way he the nuances of distinct Indian languages viz. Haryanavi, Braj, aavdhi and Mughal Tahzib is wonderful. Every reader could connect himself with the adventurous stories. Author has researched rigorously on Indian languages and that gives a realistic hue to the stories in the book.   

 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
1
Section 2
2
Section 3
9
Section 4
10
Section 5
26
Section 6
27
Section 7
29
Section 8
71
Section 9
196
Section 10
218
Section 11
220
Section 12
222
Section 13
239

Common terms and phrases

अकबर अपनी अपने अब अभी आचार्य आज आदि आप इतिहास इस उन उनकी उनके उन्हें उन्होंने उस उसका उसकी उसके उसने उसे एक और औरंगजेब करता करते हुए करने कहा कहाँ का कि किंतु किन्तु किया किसी की की ओर की भाँति कुछ के कारण के रूप में के लिए के साथ केवल को कोई क्या गई गए चले जब जा जाए जाने जी जैसे जो तक तथा तुम तो था थी थे दिन दिल्ली दी दे देखकर देखा देश दो दोनों द्वारा नहीं नाम निकल ने पर पास प्रकार फिर बात बिना बोला बोले भारत भारतीय भी महाराज मुगल में मैं यदि यह यहाँ ये रह रहा है रही रहे थे रहे हैं लगा लगे लिया ले लेकर वह वाले वे सकता सभी समय समस्त सम्राट से हम हमारे हमें हाथ हिन्दू ही हुआ हुई हूँ हेलन है है कि हैदराबाद हो गया होकर होगा होता होने

Bibliographic information