राष्ट्रीय नवोत्थान

Front Cover
Suruchi Prakashan, Aug 1, 2013 - Philosophy - 332 pages
0 Reviews

K Suryanarayan Rao, the Author had provided his best account recollecting the writings and thoughts of Swami Vivekananda was reaffirmation of the mission of RSS which was also spelt by another great Hindu Nationalist M.S. Golwalkar. Starting with the life-sketch of Swami Vivekananda and his mentor Swami Ramakrishna Paramhamsa. The editor shows how the ‘Sangh Sanchalak’ Dr. Hedgewar and Guru Golwalkar, followed the young saint who inspired the world. The compilation also reminds that the unfinished task has to be completed with dedication. It would be fitting tribute to Swami Vivekananda. 

 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अथवा अधिक अनेक अन्य अपना अपनी अपने आज आप इस उन उनका उनकी उनके उन्हें उन्होंने उस उसके उसे एक एवं एवम् ऐसे कर करता करते हैं करना करने करने के लिए करो कहा का कार्य कार्यकर्ताओं किया किया है किसी की कुछ के प्रति के रूप में के लिए के साथ केवल को कोई क्या गया गये चाहिए जब जाता जी ने जीवन जो डॉक्टर तक तथा तमिलनाडु तुम तो था थे दिया देश द्वारा धर्म नहीं नहीं है नागपुर निर्माण ने पर परन्तु प्रकार प्राप्त बाद भारत भाव भी में में भी मैं यदि यह रहा रहे हैं रामकृष्ण परमहंस राष्ट्र राष्ट्रीय राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ रूप से लोग लोगों वह वहाँ विचार विश्व वे व्यक्ति शक्ति संपूर्ण संस्कृत सकता सब सभी समय सेवा स्वयंसेवक स्वयंसेवकों स्वामी जी स्वामी विवेकानंद हम हमारा हमारी हमारे हमें हिन्दुत्व ही हुआ हुए है और है कि हैं हो होगा होना

Bibliographic information