Vrkshaaropan Evan Paryaavaran Sanrakshan

Front Cover
Suruchi Prakashan, Aug 1, 2017 - 24 pages
0 Reviews

पर्यावरण का अर्थ है - हमारे आसपास का समूचा प्राकृतिक परिवेश जैसे - वायु, भूमि, जल, वन, पेड़-पौधे, फल व जीव-जन्तु। जो भी हम अपने चारों ओर देखते हैं, यहाँ तक कि सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड के आकाशीय पिंड भी पर्यावरण का निर्माण करते हैं। समस्त प्राणीजगत् व वनस्पति जगत् का आधार पर्यावरण ही है। ईश्वर ने पर्यावरण के विभिन्न घटकों के मध्य एक ऐसा संतुलन बनाया ताकि हमारा जीवन सुख-शांति से व्यतीत हो सके।

          परन्तु मानव ने अपनी अबाधित व असंयमित लोभ-लालसा की पूर्ति हेतु इस दिव्य संतुलन को बिगाड़ दिया। आज विश्व की सबसे बड़ी समस्या है - पर्यावरण प्रदूषण। भारतीय संस्कृति व दर्शन में पर्यावरण के विभिन्न अवयवों - नदी, पर्वत, वृक्ष, वनस्पति व जीव-जन्तु को देवतुल्य मानकर उनकी पूजा-उपासना की गई है व उनके अनुशासित व संतुलित उपभोग पर विशेष बल दिया गया है।

          वृक्षारोपण द्वारा कैसे हम पर्यावरण को सुरक्षित रख सकते हैं व इससे जुड़ी प्रत्येक जानकारी इस पुस्तक में समाहित है।   

 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अधिक अपनी अपने आज आदि आस्था इन इस इसके इससे ईश्वर उत्तरांचल उनकी उपभोग उपयोगी उसकी उसके एक एकड़ एवं कनाडा कर करता है करते हैं करना करें का किया की कुछ के अनुसार के कारण के लिए के लिये के साथ केवल को को भी गई गया है ग्रीष्म ऋतु चाहिए जब जल जा जाता है जाती जीवन जैसे तक तथा तो था थी दिया दूषित देता देश धरती नदियों नहीं नहीं है ने पर परन्तु पर्यावरण के पानी पूजा पृथ्वी पेट्रोलियम पेड़ पेड़ों पौधे पौधों की प्रकार प्रकृति प्रकृति के प्रति प्रभावित प्राकृतिक प्रेरणा फै बन बरगद बहुत भारत भी भूमि भोग मानव में यह यहाँ यही रहा है रही रहे हैं रूप से वन वनस्पति वर्ष वह वायु विभिन्न विश्व वृक्ष वृक्षों व्यक्ति सकता है सबसे सभी समस्या से सौन्दर्य हम हमारी हमारे हमें हिन्दू ही हेतु है और है कि हो होता है होने

Bibliographic information