Prachen Bharat Adhyatma aur Vigyan

Front Cover
Suruchi Prakashan - 88 pages
1 Review
 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

This book is an eye-opener. You will be surprised to know the virtuous traditions of India in balancing spirituality with modern science. Worth reading at least once. Simple and effective language.

Common terms and phrases

अथवा अधिक अध्यात्म अन्य अपनी अपने अब आदि आधार आयुर्वेद इस इस प्रकार इसके इसी इसीलिए ईश्वर उनके उसकी उसके उसे ऊर्जा एक ही एवं ऐसा ऐसी कर करते करना कहा का कार्य किसी की कुछ के कारण के रूप में के लिए के साथ केवल को कोई क्या क्षेत्र गई गया है जब जीवन जैसे जो ज्ञान तक तथा तो था कि थी थे दिया दो दोनों द्वारा धर्म नहीं ने पर परंतु पर्यावरण पूर्व प्रकार के प्रकृति के प्रभामंडल प्रयोग प्राचीन प्राप्त प्रारंभ फिर बात भारत भारतीय भारतीय संस्कृति भी भौतिकी मनुष्य मानव में भी यदि यह यही या रसायन रसायन शास्त्र रहा है रही रहे राम रूप से वर्णन वह वाली वाले विज्ञान विज्ञान के विश्व वे वैज्ञानिक शिव संस्कृति सकता है सत्य सभी सिद्धांत सृष्टि स्पष्ट स्वरूप हम हिंदुत्व हिंदू ही हुआ हुई हुए है और है कि हैं हो होगा होता है होती होने

Bibliographic information