Rahasyavādī Jaina Apabhraṃśa kāvya kā Hindī para prabhāva

Front Cover
Vāṇī Prakāśana, Jan 1, 1991 - Poetry - 135 pages
On Jaina mystic poetry in Apabhraṃśa language and its influence on Hindi poetry.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
11
Section 2
12
Section 3
13
Copyright

7 other sections not shown

Other editions - View all

Common terms and phrases

अथवा अनेक अपको अपनी अपने अर्थात आत्मा आत्मा के आदि इन इस प्रकार इसी उक्त उनके उस उसके ऋषभदेव एक कबीर कर करता है करते करना करने कर्म कवि कहते हैं कहा का कारण काव्य किया है किसी की कुछ के लिए के विषय में केशी को कोई गई गया है गुरु चाहिए जब जा सकता जाती जीव जैन धर्म जो ज्ञान डॉ० तक तथा तो था थी थे दर्शन दिया दो दोनों दोहा द्वारा नहीं नहीं है नाम ने पद पर परन्तु परमात्मा पाल पूर्ण पृ० प्रभाव प्राप्त प्रेम बनारसीदास बात ब्रह्म भी भेद मन माना मुनि रामसिंह में भी मैं मोक्ष यह यहां या रचना रहस्यवाद राम रूप में लिखा वह वही वहीं वाले वि वे शब्द शरीर शिव संसार सकता है सब सभी समय समान सम्प्रदाय साहित्य से सो हम हिन्दी हिन्दी साहित्य ही हुआ हुए है और है कि हैं होता है होती होने

Bibliographic information