Gaṇita śāstra ke vikāsa kī Bhāratīya paramparā

Front Cover
Motilal Banarsidass Publishe, 2006 - Hindu mathematics - 410 pages
Study of ancient Hindu mathematics based on mythological texts.
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Selected pages

Contents

Section 1
Section 2
Section 3
Section 4
Section 5
Section 6
Section 7
Section 8
Section 16
Section 17
Section 18
Section 19
Section 20
Section 21
Section 22
Section 23

Section 9
Section 10
Section 11
Section 12
Section 13
Section 14
Section 15
Section 24
Section 25
Section 26
Section 27
Section 28
Section 29
Section 30

Other editions - View all

Common terms and phrases

अज्ञात अत अता अथवा अनेक अन्य अर्थात् आदि आर्यभट इन इम इस प्रकार इस प्रकार है इसका इसके इससे इसी इसे उदाहरण उन उस एक और कर करके करते हुए करते है करने के लिये करने पर कर्ण का का मान किया गया किया है किसी की कुल के अनुसार के लिये के साथ को कोटे गणित गणितज्ञ गुणक गुणनफल जा जाता जो तथ तथा तो दोनों द्वारा धन नहीं नाम नियम ने पकी पद परिमाप प्र प्रकट प्रकार के प्रथम प्रमाण प्रयोग प्रस्तुत प्राचीन प्राप्त करने प्राप्त होता है बने बीजगणित ब्रह्मगुप्त भाग भारत भास्कराचार्य ने भी भुज भुजा भुजाओं भू मान में यर यल यह यहाँ या रा राशि रूप में वन वने वर्ग वह वाले विफल वृत वे शक्ति शेष संक्रमण संख्या संख्याओं समकोण समीकरण सिद्ध सूद सूर से से प्राप्त हल ही है कि हैं हो होती होते

Bibliographic information