Kuramī cetanā ke sau varsha: rāshṭrīya pariprekshya meṃ, 1894-1994

Front Cover
Gītā˝jali Prakāśana, 1994 - Kurmis - 746 pages
0 Reviews
Study of the development of the Kurmis, caste in Hindu society at the national level; includes various conferences held by the Akhila Bhāratīya Kūrmi Kshatriya Mahāsabhā; covers the period 1894-1994 and published on the occasion of the centenary celebrations of the Mahāsabhā.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

39
145
41
194
42
210

1 other sections not shown

Other editions - View all

Common terms and phrases

अधिवेशन में अध्यक्ष अनेक अन्य अपना अपनी अपने अब आज आदि इतिहास इन इन्द्र इस इसी उत्तर उत्तर प्रदेश उनका उनकी उनके उन्हें उन्होंने उस उसके ऋग्वेद एक एवं ओर और कर करके करते करने कहा का काल किया किया गया किसी की कुछ कुरमियों कुरमी कूर्मि क्षत्रिय के लिये के साथ को कोई क्षत्रिय गई गया है गयी गये गुजरात जब जा जाता है जाति जाने जी जैसे जो तक तथा तब तो था थी थे दिया दिल्ली देश दो दोनों द्वारा धर्म नहीं ने पटना पटेल पर पीलीभीत पुस्तक पूर्व प्रकार प्रथम प्रदेश प्राप्त बहुत बाद बाबू बिहार भारत भारतीय भी महाराज महाराष्ट्र महासभा के में यह या यू० पी० ये रहा रहे राजा राज्य लखनऊ लोग लोगों वर्ष वह वाले वे शब्द शिवाजी श्री सन् सब सभा समय समाज सिंह से स्थान हम हिन्दू ही हुआ हुई हुये है और है कि हैं हो होता होने

Bibliographic information