Prachin Bharat ke Vaigyanik Karndhar

Front Cover
Subodh Pocket Books
 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

संजय कुशवाह

Selected pages

Common terms and phrases

अग्नि अध्याय अपने अर्थ अर्थात् आदि इन इस तरह इसका इसके इसलिए इसी उनके उस उसके उसने उसे ऋ० एक ओर कम कर करके करता है करते करना करने कहते हैं कहा का कारण काल किया किसी की कुछ के अनुसार के बारे में के बीच के लिए के साथ को कोई क्योंकि गई गए गया है ग्रन्थ चन्द्रमा चार चाहिए जब जा सकता जाता है जाती जाते हैं जाने जैसे जो ज्ञान ज्यादा ज्योतिष तक तीन तो था थी थे दिए दिन दिनों दिया गया दूसरे दो दोनों द्वारा नक्षत्र नहीं नाम ने पर पहले पैदा प्राप्त फिर बताया बहुत बात बाद भाग भी में से यज्ञ यह या युग ये वर्ग वर्ष वह वाला वाली वाले वे शब्द श्लोक संख्या संहिता सकता है सभी समय सिद्धान्त सू० सूर्य से हम हमें हर ही हुआ हुए है और है कि हो होता है होती होते हैं होने

Bibliographic information