Reviews

User reviews

User Review - Flag as inappropriate

यह पुस्तक दुनिया के इतिहास को बहुत रोमांचक ढंग से प्रस्तुत करती है। डॉ भगवतशरण उपाध्याय जी ने कड़ी मेहनत, लगन और पुरातत्व के प्रति अपनी अभिरुचि के चलते इस पुस्तक को बहुत रोचक ढंग से लिखा है।
जो कोई भी विश्व इतिहास और पुरातत्व में जरा भी रुचि रखता हो, उसके लिए यह पुस्तक रामचरितमानस साबित हो सकती है।
 

All reviews - 1
5 stars - 0
4 stars - 0
3 stars - 0
2 stars - 0
1 star - 0

All reviews - 1
Editorial reviews - 0

All reviews - 1