Rajbhasha Sahayika

Front Cover
Prabhat Prakashan, Jan 1, 1994 - 239 pages
प्रस्तुत ग्रंथ राजभाषा हिंदी के कार्यान्वयन के क्षेत्र में लेखक के सुदीर्घ अनुभव का फल है । इसमें राजभाषा के विभिन्न पहलुओं कं सैद्धांतिक और व्यावहारिक पक्षों का सम्यक विवेचन किया गया है । भारत सरकार की राजभाषा नीति के तहत विभिन्न सरकारी कार्यालयों में हिंदी/राजभाषा अधिकारियों की नियुक्तियाँ की जा रही हैं । इन पदों पर प्राय : -विश्वविद्यालयों से उच्च शिक्षा प्राप्त कर आए मेधावी युवाओं की या अनुवाद-कार्य का अनुभव रखने वाले कार्मिकों की नियुक्तियाँ होती हैं । इन अधिकारियों को साहित्य का ज्ञान तो होता है, किन्तु हिंदी के राजभाषा स्वरूप और उसके कार्यान्वयन की जानकारी प्राय: नहीं होती है । यह पुस्तक न केवल राजभाषा विभाग से जुड़े आधिकारियों या सरकारी कार्यालयों में कार्यरत अनुवादकों के लिए अपितु हिंदी अधिकारी/ अनुवादक आदि बनने के इच्छुक व्यक्तियों के लिए भी समान रूप से उपयोगी तथा मार्गदर्शक सिद्ध होगी ।

इसमें हिंदी की कार्यशालाओं तथा सेमिनारों आदि के आयोजन के लिए भी पर्याप्त सामग्री समाविष्ट है । इस विषय पर उपलब्ध अन्य पुस्तकों में प्राय: मंत्रालयों आदि के संदर्भ में ही राजभाषा-प्रयोग पर विचार किया गया है । किंतु इस ग्रंथ में मंत्रालयों के अतिरिक्त केंद्रीय सरकार के विभिन्न उपक्रमों/उद्यमों/स्वायत्त निकायों आदि की कार्य-पद्धति के अनुरूप राजभाषा-प्रयोग के वास्तविक पक्षों पर भी समुचित सामग्री दी गई है । अतएव यह पुस्तक परिवहन, वाणिज्य, बैंकिंग, कृषि आदि क्षेत्रों ने जुड़े विभिन्न सरकारी उपक्रमों के सभी कर्मचारियों/ अधिकारियों के लिए तो विशेष रुप से उपयोगी रहेगी ही, साथ ही आम पाठकों के लिए भी बड़ी रुचिकर सिद्ध होगी ।

 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
7
Section 2
9
Section 3
13
Section 4
14
Section 5
16
Section 6
17
Section 7
44
Section 8
54
Section 10
80
Section 11
87
Section 12
92
Section 13
158
Section 14
188
Section 15
194
Section 16
218
Section 17
229

Section 9
68
Section 18
240

Other editions - View all

Common terms and phrases

० ० ० ०र अंग्रेजी भाषा अंग्रेजी में अथवा अधिक अधिकारी अधिनियम अनुवाद अन्य अपनी अपने अभी अर्थ आदि आदेश आप आवश्यक इस उस उसके एक एवं ऐसे और कर करते करना करने करें कर्मचारियों का प्रयोग काम कार्य कार्यालय कार्यालयों किया किसी की कुछ के लिए के साथ केन्द्रीय सरकार को कोई क्षेत्र गए गया है गुजरात चाहिए जब जा जाए जाएगा जाता है जाना जाने जैसे जो तक तथा ता तो था दिया देवनागरी द्वारा ध्यान नहीं नाम नियम ने पत्र पर पहले प्र प्राप्त बात भारत भाषा के भाषाओं भी महाराष्ट्र में ही मैं यदि यह या राजभाषा राज्य रूप में लिखा लिया वह वाक्य वाले विषय वे शब्द शब्दावली सभी समय सरकार के से हम हिंदी हिन्दी का हिन्दी भाषा हिन्दी में ही हुए है और है कि है है हैं हो होगा होता है होती होने

About the author (1994)

अवधेश मोहन गुप्त शिक्षा : बी.एस-सी. एम. ए. (अर्थशास्त्र, हिंदी) अनुवाद प्रमाण-पत्र (विशष योग्यता) । कृतियाँ : अनुवाद विज्ञान : सिद्धांत और सिद्धि, अंग्रेजी - हिंदी नौ - वहन शब्दकोश, पत्तियों का विद्रोह (काव्य - संग्रह) । राजभाषा प्रयोग, तकनीकी शब्दावली अनुवाद और भाषा -विज्ञान पर अनेक लेख प्रकाशित । व्याख्यान : विभिन्न संस्थानों में राजभाषा - प्रयोग, अनुवाद और भाषा- विज्ञान पर दो सौ से आधिक व्याख्यान । अनुभव : निजी क्षेत्र, राज्य सरकार, केंद्रीय सरकार तथा विभिन्न सरकारी उपक्रमों आदि में लगभग पंद्रह वर्ष तक राजभाषा - कार्यान्वयन से संबद्ध रहने के बाद संप्रति भारतीय नौ - वहन निगम लि., कलकत्ता में वरिष्ठ हिंदी आधिकारी ।

Bibliographic information