Bhartiya Sahitya Ki Pahchan

Front Cover
सियाराम तिवारी
Vani Prakashan, 2015 - Indic literature - 664 pages
वास्तव में, भारतीय साहित्य कि धारणा का सीधा संबंध भारतीय संस्कृति और भारतीय राष्ट्र कि धारणा के साथ जुड़ा हुआ है॥ जिस प्रकार सहश्त्राब्दियों से धर्म,जाती, भाषा आती के वैविध्य के रहते हुए भी भारतीय संस्कृति में मूलभूत एकता रही है और भारतीय राष्ट्र जीवंत सत्यके रूप में विद्यमान है,इसी प्रकार भारतीय साहित्य कि मूलभूत एकता का निषेध भी नहीं किया जा सकता। तत्त्वरूप में, भारतीय सहतीय एक इकाई है, उसका समेकित अस्तित्व है जो भारतीय जीवन कि अनेकता में अंतर्व्याप्त एकता को अभिव्यक्त करता है। या पुस्तक आपको भारतिए परिवेश,साहित्य, और अपनी संस्कृति से रूबरू करती है।
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Z-5
Section 2
Z-7
Section 3
Z-9
Section 4
Z-24
Section 5
Z-53
Section 6
Z-92
Section 7
Z-118
Section 8
Z-152
Section 20
Z-379
Section 21
Z-386
Section 22
Z-390
Section 23
Z-392
Section 24
Z-397
Section 25
Z-421
Section 26
Z-435
Section 27
Z-465

Section 9
Z-168
Section 10
Z-169
Section 11
Z-184
Section 12
Z-193
Section 13
Z-235
Section 14
Z-258
Section 15
Z-274
Section 16
Z-280
Section 17
Z-291
Section 18
Z-311
Section 19
Z-349
Section 28
Z-490
Section 29
Z-495
Section 30
Z-520
Section 31
Z-527
Section 32
Z-550
Section 33
Z-569
Section 34
Z-600
Section 35
Z-619
Section 36
Z-658
Copyright

Common terms and phrases

अधिक अनुवाद अनेक अन्य अपनी अपने असम आदि आधुनिक इतिहास इन इनका इनकी इनके इस इस काल इसमें इसी उनका उनकी उनके उन्होंने उपन्यास उर्दू उल्लेखनीय एक एवं और कथा कन्नड़ कर करते करने कवि कविता कवियों कहा कहानी का काल में काव्य किया गया किया है की की रचना की कुछ कृत के कारण के रूप में के लिए के साथ को कोंकणी गया है गयी गये गुजराती ग्रंथ जा जाता है जीवन जो डॉ डोगरी तक तथा तमिल तेलुगु तो था थी थे दिया दी दृष्टि से दो द्वारा धर्म नहीं नाटक नाटकों नामक ने पंजाबी पर प्रकार प्रथम प्रभाव प्रमुख प्रयोग प्रसिद्ध प्रस्तुत प्राप्त भारत भारतीय भाषा भी मणिपुरी महत्वपूर्ण महाभारत में भी यह युग ये रचनाएँ रचनाओं रहा रही रहे रामायण लिखा लिखी लिखे विकास विशेष वे संग्रह सन् समय समाज सामाजिक साहित्य सिंह से ही हुआ है हुई हुए है कि हैं हो होता होने

Bibliographic information