Sampooran Kahaniyan : Suryakant Tripathi Nirala

Front Cover
Rajkamal Prakashan, Sep 1, 2008 - 258 pages
सम्पूर्ण कहानियाँ - प्रखर जनवादी चेतना के लेखक निराला की 25 कहानियों का महत्त्वपूर्ण संग्रह है। इन कहानियों को रचना-क्रम और प्रकाशन-क्रम से यहाँ प्रस्तुत किया गया है। निराला ने अपनी इन कहानियों में विषयवस्तु के अनुरूप ही कहानी का नया रूप गढ़ा है। वे कई बार संस्मरणात्मक ढंग से अपनी बात करते हैं, लेकिन अन्त तक आते-आते मामूली-से बदलाव से संस्मरण को कहानी में बदल देते हैं। निराला के पहले चरण के उपन्यासों में जिस तरह कल्पना और यथार्थ के बीच अन्तर्विरोध दिखाई देता है, वह अन्तर्विरोध उपन्यास की अपेक्षा इन कहानियों में ज्यादा तीखा है। इन कहानियों में उनका गद्य हास्य का पुट लिये नई दीप्ति के साथ सामने आया है। जितना उसमें कसाव है, पैनापन भी उतना ही। सुरुचिपूर्ण साज-सज्जा में प्रकाशित निराला की ये सम्पूर्ण कहानियाँ पाठकों को पहले की तरह ही अपनी ओर आकर्षित करेंगी।
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
6
Section 2
9
Section 3
11
Section 4
14
Section 5
19
Section 6
29
Section 7
35
Section 8
50
Section 23
259
Section 24
276
Section 25
285
Section 26
293
Section 27
301
Section 28
315
Section 29
331
Section 30
353

Section 9
65
Section 10
79
Section 11
87
Section 12
89
Section 13
91
Section 14
114
Section 15
121
Section 16
131
Section 17
144
Section 18
217
Section 19
226
Section 20
229
Section 21
236
Section 22
247
Section 31
358
Section 32
367
Section 33
373
Section 34
377
Section 35
384
Section 36
397
Section 37
400
Section 38
403
Section 39
413
Section 40
439
Section 41
446
Section 42
460
Section 43
463
Section 44
473

Other editions - View all

Common terms and phrases

अधिक अनेक अपनी अपने अब अर्थ आज आदि इतिहास इन इस इस प्रकार इसी इसीलिए उनके उन्हें उन्होंने उस उसका उसके उसे एक ऐसा कभी कर करके करते हैं करना करने कहते कहा का कारण कालिदास किया किया है किसी की की ओर कुछ के लिए के साथ केवल को कोई क्या गया है गयी गये चाहिए जब जा जाता है जाती जाते जाने जिस जो तक तुक तो था थी थे दिन दिया देश दो दोनों धर्म नहीं है नाम ने पर परन्तु पहले फिर बहुत बाद भारत भारतवर्ष भारतीय भी मन मनुष्य महाभारत में में भी मैं यह या ये रहा है रहे रूप में लोग वर्ष वह वे वेद शक्ति शब्द शिव संसार सकता है सकते सत्य सब समय साहित्य से हम हमारे हिन्दू हिमालय ही ही नहीं हुई हुए हूँ है और है कि है है हैं हो होगा होता है होती होते होने

About the author (2008)

सूर्यकान्त त्रिपाठी 'निराला' नराला का जन्म वसन्त पंचमी, 1896 को बंगाल के मेदिनीपुर जिले के महिषादल नामक देशी राज्य में हुआ। निवास उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के गढ़ा कोला गाँव में। शिक्षा हाईस्कूल तक ही हो पाई। हिन्दी, बांग्ला, अंग्रेजी और संस्कृत का ज्ञान आपने अपने अध्यवसाय से स्वतन्त्र रूप में अर्जित किया। प्राय: 1918 से 1922 ई. तक निराला महिषादल राज्य की सेवा में रहे, उसके बाद से सम्पादन, स्वतन्त्र लेखन और अनुवाद-कार्य। 1922-23 ई. में 'समन्वय (कलकत्ता) का सम्पादन। 1923 ई. के अगस्त से 'मतवाला'—मंडल में। कलकत्ता छोड़ा तो लखनऊ आए, जहाँ गंगा पुस्तकमाला कार्यालय और वहाँ से निकलनेवाली मासिक पत्रिका 'सुधा' से 1935 ई. के मध्य तक सम्बद्ध रहे। प्राय: 1940 ई. तक लखनऊ में। 1942-43 ई. से स्थायी रूप से इलाहाबाद में रहकर मृत्यु-पर्यन्त स्वतन्त्र लेखन और अनुवाद कार्य। पहली प्रकाशित कविता : 'जन्मभूमि' ('प्रभा', मासिक, कानपुर, जून, 1920)। पहली प्रकाशित पुस्तक : 'अनामिका' (1923 ई.)। प्रमुख कृतियाँ : कविता-संग्रह : अनामिका, आराधना, गीतिका, अपरा, परिमल, गीतगुंज, तुलसीदास, कुकुरमुत्ता, बेला, अर्चना, नए पत्ते, अणिमा, रागविराग, सांध्य काकली, असंकलित रचनाएँ। उपन्यास : बिल्लेसुर बकरिहा, अप्सरा, अलका, कुल्लीभाट, प्रभावती, निरुपमा, चोटी की पकड़, भक्त ध्रुव, भक्त प्रहलाद, महाराणा प्रताप, भीष्म पितामह, चमेली, काले कारनामे, इन्दुलेखा (अपूर्ण)। कहानी-संग्रह : सुकुल की बीवी, लिली, चतुरी चमार, महाभारत, सम्पूर्ण कहानियाँ। निबन्ध-संग्रह : प्रबन्ध प्रतिमा, प्रबन्ध पद्म, चयन, चाबुक, संग्रह। संचयन : दो शरण, निराला संचयन (सं. दूधनाथ सिंह), निराला रचनावली। निधन : 15 अक्टूबर, 1961

Bibliographic information