Rāmacaritamānasa para paurāṇika prabhāva

Front Cover
Dillī Pustaka Sadana, 1974 - Mythology in literature - 494 pages
0 Reviews
Reviews aren't verified, but Google checks for and removes fake content when it's identified
On the influence of the Puranas on Tulsidas, 1532-1623, as depicted in the Rāmacaritamānasa, Awadhi story of Rama, Hindu deity.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

१० ११ १२ १३ १४ १५ १६ १७ १८ अतः अथवा अध्यात्मरामायण के अध्याय अपने आदि इन इस इस प्रकार इसी एक एवं और कथा कर करते करने कहा का वर्णन कारण किन्तु किया गया है किया है की कूर्मपुराण के अनुसार के लिए को जीव जो ज्ञान तथा तब तुलसी ने ते तो दिया देवगण देवता देवीभागवतपुराण दो दोनों द्वारा धर्म नहि नहीं नहीं है नाम नारद नारदपुराण निज निरूपण पद्मपुराण पर परशुराम पार्वती पुराण पुराणों में पृ० प्रकार प्रध्यात्मरामायण प्रभु प्रसंग ब्रह्मपुराण ब्रह्मवैवर्तपुराण ब्रह्मा भक्त भक्ति भगवान् भरत भागवतपुराण भी मत मन मम माया मुनि मे में भी यह या राजा राम के रामचरितमानस में रामचरितमानसकार ने रामायण रावण रूप रूप में लक्ष्मण लिंगपुराण वह वाल्मीकि वाल्मीकिरामायण विष्णु विष्णुपुराण वे व्यास शंकर शिव शिवपुराण श्रीकृष्ण सब सीता से सो स्कंदपुराण हि ही हुआ हुए है कि हैं हो

Bibliographic information