Results 1-2 of 2
User Review - Flag as inappropriate

प्रतिष्ठा में
अति उत्तम इस भागीरथ प्रयत्न की जितनी भी सराहना की जाय कम होगी। संस्कृत साहित्य की गरिमा को जन - जन तक पहुँचाने का पुण्य पुरुषार्थ विरले विद्वान ही कर पाते हैं।
नत मस्तक
राम राज
लखनऊ - 9415764415

User Review - Flag as inappropriate

Good, it would have been better if it contained some more detail.


5 stars - 0
4 stars - 0
3 stars - 0
2 stars - 0
1 star - 0

Editorial reviews - 0
User reviews - 2