Harshacaritam (Vol. 1) 1-4 Uchhwaas

Front Cover
Motilal Banarsidass Publishe, 2001
Astrology can be considered a useful branch of knowledge only if its concepts and principles could be applied to assess the personality and life of a person, and to look into the years ahead to tell him as to what is in store for him.
 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

प्रतिष्ठा में
अति उत्तम इस भागीरथ प्रयत्न की जितनी भी सराहना की जाय कम होगी। संस्कृत साहित्य की गरिमा को जन - जन तक पहुँचाने का पुण्य पुरुषार्थ विरले विद्वान ही कर पाते हैं।
नत मस्तक
राम राज
लखनऊ - 9415764415

User Review - Flag as inappropriate

Good, it would have been better if it contained some more detail.

Common terms and phrases

अत्र अथ च अथवा अन्यत्र अपनी अपने अपि अर्थात् इति इति यावत् इत्यमरः इत्यर्थः इव इवेत्युत्प्रेक्षायाम् इस उस उसके उसने उसे एक एव एवं ऐसा और कर करके करता है करते करने कवि कहते हैं का किन्तु किया किये की तरह कुछ के कारण के लिए के साथ को कोई क्या गई गए गया जा जाता है जाने पर जैसे जो तक तथा तथाभूतः तया तस्मिन् तस्य तु ते तेन तेषां तैः तो थीं दिया दे देने दोनों द्वारा नहीं नाम ने पर बना बने बाण बाण ने बाद भावः भी मानो में यः यत् यथा स्यात्तथा यस्य यस्याः यह या यानि ये येन येषां रखा रखे रहा था रही थी रहे थे राजा लग वह वा वाला वाली वाले वे शब्द शेषः श्वेत सभी समय सरस्वती सह सा सूर्य से हम हर्ष हाथ हि ही हुआ हुई हुए हृदय है कि हैं हो होता है होते होने

Bibliographic information