Reviews

User reviews

User Review - Flag as inappropriate

बहुत ही घटिया किताब लिखी है। ऐसे ही बहुत से मुर्ख हिन्दुओं के कारण हमारे राम लला की ऐसी दुर्दशा हुई है। चुल्लू भर पानी में ...................। बहुत दुखी हृदय के साथ राम राम!!

All reviews - 1
5 stars - 0
4 stars - 0
3 stars - 0
2 stars - 0
1 star - 1
Unrated - 0

All reviews - 1
Editorial reviews - 0

All reviews - 1