Madhya Himālaya ke parvatīya rājya evaṃ Mughala śāsaka

Front Cover
Vāṇī Prakāśana, 1995 - History - 255 pages
Articles chiefly on the political history of Garhwal, Kumaun, and Sirmaur regions in the Himalayas during the time of the Mughals; covers the period, 1526-1707.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
32
Section 2
62
Section 3
84

5 other sections not shown

Other editions - View all

Common terms and phrases

अकबर अता अथवा अनेक अपनी अपने अभियान अंचल आदि इन इस इस पर्वतीय अंचल उत्तराखण्ड उत्तराखण्ड का इतिहास उसके उसने उसे एक एव एवं ओर और औरंगजेब करते करना करने के लिए क्षेत्र किया की की मृत्यु कुमाऊं के राजा के अनुसार के पर्वतीय के पश्चात् के बीच के राजा के के राजाओं के शासनकाल के समय के साथ को कोई खत खा गई गढ़वाल के राजा गये चन्द जहांगीर जा जाता जाने जो डबराल तक तराई तो था थे दरबार द्वारा दिया दिल्ली देखें नहीं ने नेपाल पर आक्रमण परन्तु प्रकाश प्रदान प्रदेश प्राप्त पुत्र पृ० भाग भारत का इतिहास भी मुगल शासकों मुगल सम्राट मुगल सेना मुस्लिम में यह रहा राज्य राज्यों वर्ष वह वही वहीं विषय श्रीनगर शासन शाह शाहजहां शाही सत् सन सन् समकालीन सम्बन्ध सहायता स्थित सिरमौर के राजा से सेना ने हिन्दी हिमालय ही हुआ हुई हुए है कि हैं होता है कि

Bibliographic information