Chanakya Niti

Front Cover
Subodh Pocket Books
 

What people are saying - Write a review

User ratings

5 stars
9
4 stars
1
3 stars
0
2 stars
0
1 star
0

User Review - Flag as inappropriate

चाणक्य निति का अध्ययन करना अपने आप में एक महान-सुख के अनुसार है !
उन परिस्थितियों को सोच कर ही हैरानी होती है की उस काल में चाणक्य ने असंभव काम को कैसे संभव किया होगा
?
चंदरगुप्त काल के राष्ट्र का नक्शा देख कर ही सिहरन होती है की कैसे प्रबंधन होता होगा !
ऐसे लगता है की कोई दैविक ताकत चाणक्य का साथ दे रही थी ?
ऐसी महान ग्रन्थ / पुस्तक का अध्ययन करते हुए एक ही शिकवा होता है की कॉपी & पेस्ट की सुविधा क्यों नहीं दी गई ?
धन्यवाद सहित
शिव उप्पल
 

User Review - Flag as inappropriate

chanakaya is best gide

All 10 reviews »

Contents

Section 1
Section 2
Section 3
Section 4
Section 5
Section 6
Section 7
Section 8
Section 11
Section 12
Section 13
Section 14
Section 15
Section 16
Section 17
Section 18

Section 9
Section 10
Section 19

Common terms and phrases

Bibliographic information