भगवान बुद्ध और उनका धम्म: भगवान बुद्ध और उनका धम्म

Front Cover
Ssoft Group, INDIA, Nov 3, 2014 - 269 pages

हमे बहोत ख़ुशी हो राही ही कि, android पढने वालो को परम पूज्य डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के "दि बुद्ध अंड हिज धम्म" इस अंग्रेजी ग्रंथ का हिंदी रूपांतरण डिजिटल कॉपी मी पेश कर राहे है.
SSoft Group , INDIA के और से यह अनुवाद आपको अर्पण है.

Please give us your feedback: www.facebook.com/ssoftgroup

Your opinion is very important to us. We appreciate your feedback and will use it to evaluate changes and make improvements in our book. 

www .ssoftgroup .com

 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

BHAGWAN BUDDHA AUR UNKA DHAMMA

Common terms and phrases

१० ११ अपना अपनी अपने अब आत्मा आदमी आनन्द आप इन इस इस प्रकार इसलिये उत्तर उन उनका उनके उन्हें उन्होंने उस उसका उसकी उसके उसने उसे एक ऐसा ओर कर करता है करते करना करने के कहा का कारण किया किसी की कुछ के लिये को कोई क्या गया गये गौतम ग्रहण चाहिये जब जा जाता है जीवन जो तक तथा तथागत ने तब तरह तुम तो था था कि थी थे दिया दूसरे धम्म नही नहीं नहीं है पर पास प्रश्न प्राप्त बहुत बात बार बुद्ध ने ब्रह्मा ब्राह्मण भगवान् बुद्ध भिक्षु भी मत मन मुझे में मैं यदि यह यही या रहता है रहा रहे राजा लेकिन वह वे शाक्य श्रावस्ती संघ सकता है सब सभी समय साथ सिद्धार्थ से स्वीकार हम ही हुआ हुए हूँ है और है कि हैं हो होगा होता है होती होने

About the author (2014)

 Dr B. R. Ambedkar

Born: 14 April, 1891 

Passed Away: 6, December, 1956


Contribution

Dr. B. R. AmbedkarDr B R Ambedkar, popularly known as Babasaheb Ambedkar, was one of the architects of the Indian Constitution. He was a well-known politician and an eminent jurist. Ambedkar's efforts to eradicate the social evils like untouchablity and caste restrictions were remarkable. The leader, throughout his life, fought for the rights of the dalits and other socially backward classes. Ambedkar was appointed as the nation's first Law Minister in the Cabinet of Jawaharlal Nehru. He was posthumously awarded the Bharat Ratna, India's highest civilian honor in 1990.

Bibliographic information