Vivāhapaddhatiḥ: Caturthīkarmasahitā

Front Cover
Motilal Banarsidass Publishe, 1971 - Marriage service (Hinduism) - 121 pages
1 Review
Reviews aren't verified, but Google checks for and removes fake content when it's identified
elaborate notes, two appendices, critical textual matter, a diagram of
 

What people are saying - Write a review

Reviews aren't verified, but Google checks for and removes fake content when it's identified
User Review - Flag as inappropriate

nice book

Other editions - View all

Common terms and phrases

अग्नि अथ अपने अर्थात् आगे आदि आप इति इदं इस उन उस उसी ऊपर एक ऐसा और कन्या के कर करके करता करने करे कर्म कहते कहे का किया की कुर्यात् कृत्वा के लिये के साथ को क्योंकि ग्रहण चाहिये जल जिस जैसे जो ततः ततो तत्र तथा तब तीन तु तुम तू ते तेरे तो त्वं दे देने देवता देवे दोनों धर्म धारण नमः नहीं नाम ने पढ़े पति पर परिक्रमा पहले पिता पीछे पैर प्रकार प्राप्त फिर बार ब्रह्मा भव भी मंडप मंडल मंत्र मधुपर्क मन में मेरे मैं यजमान यथा यह है कि या यानि रहित रूप लिखा लेकर वचन वधू वर वरः वस्त्र वह वा वाला वाली वाले विवाह वेदी श्रेष्ठ संकल्प सदा सब सहित सात सुख सूर्य से स्वाहा हमारे हाथ ही हुआ हुई हुए हुये हूँ हे है कि हैं हो होकर होता होने होम

Bibliographic information