Rana Sangram Singh (sanga)

Front Cover
Alekh Prakashan, 2008 - 48 pages
 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

Nice book...real history of Rana Sanga

User Review - Flag as inappropriate

Best wishes

Contents

Section 1
5
Section 2
32
Section 3
35
Section 4
38
Section 5
Section 6
21

Common terms and phrases

अनेक अपना अपनी सेना अपने अब अलगू चौधरी आदि इन इब्राहिम इस उधर उन्हें उन्होंने उस उसका उसकी उसके उसने उसे एक और और उसने कर दिया करके करता करते करना करने के कर्मचंद कहा कि का काबुल काम कारण कि किया किया और किसी की की ओर कुछ के पास के बाद के लिए के साथ को कोई क्या गई गए गुजरात चला जब जयमल जा जाने जो तक तब तरह तो था और था कि थी थे दिन दिल्ली दी दे दोनों नहीं नाम ने अपने पंचायत पर पर कब्जा पृथ्वीराज प्रकार फिर बहुत बात बाबर ने बैल भारत भी महमूद मालवा मुगल मुझे में मेदिनीराय मेवाड़ मैं यह युद्ध रहा था रहे थे राजपूत राजस्थान राजा राज्य राणा सांगा रायमल लगा लगे लिया ले लेकर लेने वह वीर वे शुरू समय सांगा के से सेना के ही हुआ हुई हुए है हैं हो गया होने

Bibliographic information