PRALAP (प्रलाप)

Front Cover
Vandna Tete
Pyara Kerketta Foundation, Jan 31, 2017 - 144 pages
1935 में प्रकाशित भारत की पहली हिंदी आदिवासी कवयित्री सुशीला सामद का पहला काव्य संग्रह.
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अपना अपनी अपने अब अरे आंदोलन आकुल आज आदिवासियों आदिवासी आशा इतिहास इन इस इसके इसलिए इसी उनकी उन्हें उन्होंने उषा उस एक और करके करती करने कविता कहाँ का कांग्रेस किन्तु किया किस किसी की कुछ के के साथ को क्या क्यों गई गया गये गांधी गान चक्रधरपुर चाँदनी चाईबासा छोटानागपुर जग जब जमशेदपुर जाता जाती जाने जीवन का जो झारखंड तक तब तरह तान तुम तू तेरे तो था थी थीं थे दिया दे दो नभ नहीं नाम निज ने पर प्यारे प्रलाप फिर बन बना बन्द बस बाद बीच भारत भी मत मन मातृभाषा मुझको मुझे मृदु में मेरा मेरी मेरे मैं मैंने यह यहाँ ये यों रह रहा रही रहे रांची रूप लिए लेकर वह वे संग्रह सब समीर साहित्य सी सुन्दर सुशीला सुशीला सामद से स्वर हाय हिंदी हिंदी साहित्य ही हुआ हुई हुए हूँ हृदय है है कि हैं हो होकर होता

About the author (2017)

सुशीला सामद हिंदी की पहली पुरखा महिला आदिवासी कवयित्री, संपादक और सुराजी स्वतंत्राता सेनानी हैं. 1930 के दशक में आप चाईबासा, झारखंड से न सिर्फ हिंदी की साहित्यिक पत्रिका निकालती थीं बल्कि स्वतंत्राता संग्राम में महिला मचान पर नेतृत्वकारी भूमिका में भी मौजूद थीं.

Bibliographic information