जनसंपर्क: अवधारण एवं बदलता स्वरूप

Front Cover
Kitabghar Prakashan, 2009 - Public relations - 160 pages
On the public relation and its changing concepts in India.
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
5
Section 2
7
Section 3
9
Section 4
11
Section 5
14
Section 6
25
Section 7
37
Section 8
43
Section 12
87
Section 13
92
Section 14
103
Section 15
109
Section 16
123
Section 17
131
Section 18
135
Section 19
141

Section 9
48
Section 10
65
Section 11
77
Section 20
145
Section 21
149
Section 22
157

Common terms and phrases

अतएव अथवा अधिक अनेक अन्य अपना अपनी अपने अमेरिका अलग अवसर इंटरनेट इत्यादि इन इस इसका इसके उत्पादन के उनकी उनके उपलब्ध उस उसका उसकी उसके उसे एक एवं ऐसी ऐसे औद्योगिक और कर करता है करते करना करने का का उपयोग काना कार्य किसी की के लिए के विकास के साथ को क्रिया जाता है क्रिसी गई गया गुजरात जनसंपर्क जनसंपर्क के जब जा जाती जानकारी जो टेलीफोन तक तथा तो था दर्शकों दायित्व दिया देना देश द्वारा नहीं ने पर परिवर्तन पेस प्रकार प्रकाशन प्रकाशित प्रारंभ बने बसे बाद भारत में भारतीय भी माध्यम माध्यम से मीडिया में जनसंपर्क यम यर यल यह या रहा है रूप में रूप से लेकिन लोगों वर्ष वाले विज्ञापन विभिन्न विशिष्ट विशेष वे व्यक्ति शासन संगठन संचार संदेश संपर्क संस्थान सकता है समय समाचार साज साधन स्तर स्थापना हम हर ही हुआ हुए हेतु हैं हो होगा होता है होती होते होने

Bibliographic information