ITIHAS KE 50 VIRAL SACH

Front Cover
Prabhat Prakashan, Jan 1, 2019 - History - 224 pages
सोशल मीडिया का दौर चरम पर है। जो फेसबुक; ट्विटर और ह्वाट्स एप कभी मित्रता और नेटवर्किंग बढ़ाने के साधन समझे जाते थे; वे अब राजनीतिक विचारधारा का टूल बन गए हैं। जिसका सबसे बुरा शिकार हो रहा है इतिहास; जिसकी मर्जी में जो आ रहा है; अपने राजनीतिक फायदे के लिए तथ्यों को तोड़-मरोड़कर उसे गलत मंशा से सोशल मीडिया के प्लेटफॉर्म पर शेयर कर रहा है। ऐसे में खासी दिक्कत उस आम आदमी के लिए हो गई है; जिसने यह इतिहास कभी किसी किताब में पढ़ा नहीं; लेकिन प्रतिष्ठित लोग उसे शेयर करें तो उसे सच मान लेता है; वहीं कोई दूसरा प्रतिष्ठित व्यक्ति उसे गलत साबित करता है तो ऐसे में सच क्या है? जरूरी था कि इस दिशा में प्रयास हों और ऐतिहासिक दावों की सच्चाई बताई जा सके। आमतौर पर टीवी के वायरल सच बताने वाले कार्यक्रमों में किसी-न-किसी इतिहासकार के बयान से ही उसे सच या झूठ मान लिया जाता है; जबकि हो सकता है कि वह इतिहासकार खुद किसी विचारधारा का पोषक हो। यह किताब सही संदभों के साथ ऐतिहासिक विवादों की तह में जाकर सच जानने का एक प्रयास है; भले ही छोटा सा है।
 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

Hashmi Pharmacy - Nice post. Cure heart disease naturally and safely with the use of herbal supplement because of its effectiveness. It delivers long term effects and does not cause any side effects.

Common terms and phrases

अकबर अगर अपनी अपने आगरा आज इंडिया इंदिरा इंदिरा गांधी इतिहास इन इस उनकी उनके उनको उन्हें उन्होंने उस वक्त उसकी उसके उसने उसे एक ऐसे में ऑफ और औरंगजेब कई कमला कर दिया कहा का का नाम कांग्रेस काफी काम किताब किया किसी की कुछ के बाद के बारे में के लिए के साथ को कोई क्या गए गया था गांधी गांधीजी चलते जब जाता है जो ज्यादा तक तब तरह तो था था कि थी थीं थे दिन दिया गया दिया था दिल्ली दी देश दो दोनों नहीं ने नेहरू ने पं पता पर पहले पार्टी पास पी.एम पृष्ठ फिर बना बात बाद में बार बोस भगत सिंह भारत भी मंदिर मुंबई मुगल में में ही या यानी ये रहा रहे लगा लिखा लिया लेकिन लेखक लोग लोगों वे वो सबसे सरकार साल से सोमनाथ हालाँकि ही हुआ हुई हुए है कि हैं हो गई

Bibliographic information