Kalam Ko Teer Hone Do

Front Cover
Ramaṇikā Guptā
Vani Prakashan, 2015 - Hindi poetry - 303 pages
5000 हज़ार वर्षों से बची आ रही आदिवासी वाचिक परंपरा ने अब मुशतैदी से कलम भी संभाल ली है। ये कलम अब 'तीर' बनने की प्रक्रिया में है। 'तीर', जो भेद रहा है इस अन्यायी,अ-समान व्यवस्था को। 'कलम का यह तीर; केवल हृदय ही नही भेद रहा बल्कि वह देश के नीति-निर्धारकों के रुख को भी पलटने की तैयारी में है। यह कलम नीति नियंताओं को सावधान कर रही है कि बस! अब और नहीं।
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Selected pages

Common terms and phrases

अपना अपनी अपने अब आज आदमी आदिवासी इतिहास इन इस इसलिए उनकी उनके उन्हें उस उसकी उसके उसे एक और कब तक कभी कर करती करते करने कलम कविता कहते हैं कहा कहाँ का कि किया किसी की तरह कुछ के नाम के लिए के साथ को कोई क्या क्यों गयी गये गाँव गीत घर जंगल जब जा जाता जाती है जाते जानते जाने जी जीवन जो झारखंड तब तीर तुम तुमने तुम्हारे तुम्हें तो था थी थे दिन दिया दिल्ली दी देश दो धरती धान नदी नहीं नहीं है ने पत्थर पर पहले पानी पास पेड़ फिर बच्चे बन बना बनाए बरगद बहुत बात बाद भी मन मुझे में मेरा मेरी मेरे मैं यह यहाँ या रहा है रही रहे हैं रात ले लेकिन लोग वह वे शहर सब साखू से स्त्री हम हमारी हमारे हमें हर ही हुई हुए हूँ है है और होगा होता होने

Bibliographic information