Hitopadesh

Front Cover
Diamond Pocket Books (P) Ltd., 2002 - Fables, Indic - 144 pages
0 Reviews
Reviews aren't verified, but Google checks for and removes fake content when it's identified
Adaptation of tales and fables from Hitopadeśa.
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Selected pages

Contents

Section 1
5
Section 2
23
Section 3
125
Copyright

Common terms and phrases

अपना अपनी अपने अब आप आया इस प्रकार इसलिए उचित उस उसका उसकी उसके उसको उसने उससे उसे एक ऐसा ओर और और फिर और भी कभी कर करता है करते करना करने कहने लगा कहा गया है का कारण कार्य कि वह किन्तु किया किस प्रकार किसी की बात कुछ के लिए के साथ को कोई क्या क्यों क्योंकि गई गया है कि चाहिए जब जा जाता है जाने जाये जिस जो तक तब तुम तो तो वह था दमनक दिन दिया देखा धन नहीं नहीं है नाम ने कहा पर पास फिर बड़ा बहुत बोला भी मन मनुष्य मन्त्री महाराज मित्र मुझे में मेरे मैं मैंने यदि यह रहता रहा रहे राजा राजा ने लिया वन वह वहां वाले विचार वे सकता है सन्धि सब समय सिंह सुनकर से स्थान स्वामी ही हुआ हुए हूं है और है तो हैं हो गया होता है होती होने

Bibliographic information