Babu Gulabrai Granthavali: Volume V

Front Cover
Atmaram & Sons
 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

जब प्यार का एहसास होता है तो उससे कुछ नही खास होता है ! ये ऐसा एहसास है जो कि सबकी ज़िंदगी में एक बार ज़रूर आता है ! लेकिन फिर भी हम हमेशा नकारते रहते है ! हम उस पल को जीते नहीं है! उस वक़्त कुछ भी वश में नही होता बस होता है तो सिर्फ़ एक जुनून, एक विश्वास, एक एहसास की वो सिर्फ़ मेरी है ! एक इंतज़ार रहता है हर पल उनसे मिलने का, उनसे बातें करने का उनके साथ घंटो बैठे रहने और सिर्फ़ उन्हे प्यार से देखते रहने का और हमेशा के लिए उन्हे अपना बना लेने का! लेकिन दोस्तो प्यार सिर्फ़ पाने का नाम नही ! ये तो एक इबादत है उसकी खुशी में खुश रह पाने की उसकी याद में जी जाने की और उसके एहसास को खुद में महसूस कर पाने की ! ये तो एहसास है जो जीना सिखाता है हमें हमसे रूबरू करवा कर उस खुदा या भगवान से मिलने का एहसास कराता है... इसलिए दोस्तो हमें प्यार, इश्क़, मोहब्बत को हमेशा सकारात्मक रूप में लेना चाहिए खुद को और औरो को उपर उठाने के लिए ना की खुद गिर जाने या औरो को गिराने के लिए...
जब हम इस एहसास में होते है तो कोई नही होता जो हमें समझे हमारे ज़ज्बात समझे ! ऐसे ही एहसासों को समेटें कुछ प्यार भरी कविताएँ पेश करता हूँ दोस्तो जो आपको अपने उन पलों की याद दिलाएगा जब आप भी इस एहसास से गुज़रे थे या फिर अगर गुजर रहें हो तो आपमें एक सकारात्मक एहसास जगाएगा... ये कविताएँ अवश्य ही आपके दिल को छू जाएगी ! आशा करता हूँ इन्हे पढ़कर आप बहुत गहरा और अच्छा महसूस करेंगें ! और आप अपने सभी दोस्तो व मित्रों में शेयर करेंगे तथा आगे भी मुझे इस तरह के लेख व कविताएँ लिखने के लिए प्रेरित करते रहेंगे...!
धन्यवाद ! ( Lakkhi kanta das)
 

User Review - Flag as inappropriate

BOOK

Common terms and phrases

अतिरिक्त अधिक अन्य अपनी अपने आदि इतिहास इन इनका इनकी इनके इन्होंने इस इसके इसमें इसी ईश्वर उदाहरण उनका उनकी उनके उपनिषद उर्दू उस उसके उसमें एक और कबीर कर करते करने कवि कविता कवियों कहा का का भी काल काव्य कि किन्तु किया की कुछ कुल के कारण के नाम के लिए के साथ को क्रिया है गई गए गया है जा जाता है जाती जाते हैं जाने जीवन जैसे जो तक तथा तो था थी थे दिया है दो दोनों द्वारा नहीं नाटक ने पर पेम बने भक्ति भारत भाषा में भी माना में में भी यया यल यह यहि या युग ये रहस्यवाद रहा राम रूप में रूप से लिखा लिखी लिखे लोग वर्णन वहुत वाले विशेष विष्णु वे शब्दों श्री सं संवत् संस्कृत सकता सब समय साहित्य सुन्दर से स्थान हम हिन्दी हिन्दी साहित्य ही हुई हुए है और हैं होता है होती होते होने

Bibliographic information