Vedic Ganit Athva Vedon Se Prapt Solah Saral Ganiteeya Sutras

Front Cover
Motilal Banarsidass Publishe, 2002
 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

311/8

User Review - Flag as inappropriate

very usefull and learnable book

Selected pages

Contents

Section 1
1
Section 2
11
Section 3
43
Section 4
51
Section 5
67
Section 6
73
Section 7
77
Section 8
81
Section 17
155
Section 18
159
Section 19
163
Section 20
167
Section 21
171
Section 22
175
Section 23
183
Section 24
185

Section 9
95
Section 10
111
Section 11
119
Section 12
126
Section 13
127
Section 14
131
Section 15
133
Section 16
143
Section 25
217
Section 26
257
Section 27
269
Section 28
273
Section 29
277
Section 30
283
Section 31
297

Other editions - View all

Common terms and phrases

अंकों अंश अथवा अधिक अध्याय अनुप्रयोग अब अर्थ अर्थात अवशेष आदि इत्यादि इन इस तरह इसका इसलिए क ८ इसी उत्तर उदाहरण उनके उपयोग उसके एक कर करते हैं करना करने के लिए का किन्तु किसी की कुछ के द्वारा के लिए केवल को कोई क्या क्रिया गणित गया गुणन गुणनफल गुणा चाहिए जा जा सकता है जाता है तक तब तो था थे दशमलव दाहिने दीजिए देते हैं दो दोनों द्वारा नहीं नहीं है ने नोट पद पर पाले प्रकार प्रक्रिया प्रचलित प्रत्येक प्रथम प्राप्त बहुत बाद भजनफल भाग भाजक भाज्य भारत भिन्न ८ भी मन मान मिलता है में यथा यदि यह यहीं या योग रूप से वा० वाले विधि वे वैदिक शून्य संख्या सकते हैं सकल सभी समीकरण सरल सूत्र से स्थान हम हमें हर हल ही हुए है और है कि है तथा हो होगा होता है

Bibliographic information