Marks Aur Pichhade Huye Samaj

Front Cover
Rajkamal Prakashan, Jan 1, 2009 - 534 pages
हिंदी के सुविख्यात समालोचक, भाषाविद् और इतिहासवेत्ता डॉ. रामविलास शर्मा का यह महत्तम ग्रंथ ‘भूमिका’ और ‘उपसंहार’ के अलावा आठ अध्यायों में नियोजित है। इनमें से पहले में उन्होंने आधुनिक चिंतन के पुरातन स्रोतों, मार्क्स के ‘व्यक्तित्व-निर्माण’ की दार्शनिक पृष्ठभूमि तथा मार्क्स-एंगेल्स की धर्म विषयक स्थापनाओं के प्रति ध्यान आकर्षित किया है। दूसरे में, सौदागरी पूँजी की विशेषताओं के संदर्भ में संपत्ति और परिवार-व्यवस्था की कतिपय समस्याओं का विवेचन हुआ है। तीसरे में, मध्यकालीन यूरोपीय ग्राम-समाजों और भारतीय ग्राम-समाजों में भिन्नता को रेखांकित किया गया है। चौथे में, प्राचीन रोमन-यूनानी समाज और प्राचीन भारतीय समाज में श्रम-संबंधी दृष्टिभेद का खुलासा हुआ है। पाँचवें में, मार्क्स-एंगेल्स पर हीगेल के दार्शनिक प्रभाव के बावजूद इतिहास-संबंधी उनकी स्थापनाओं में अंतर को विस्तार से विेवेचित किया गया है, ताकि हीगेल के यूरोप-केंद्रित नस्लवादी इतिहास-दर्शन को समझा जा सके। छठा अध्याय मार्क्स, एंगेल्स और लेनिन के जनवादी क्रांति-संबंधी विचारों, कार्यों से परिचित कराता है। सातवें में, क्रांति-पश्चात् सर्वहारा अधिनायकवाद, राज्यसत्ता में सर्वहारा पार्टी की भूमिका, फासिस्त तानाशाही से लड़ने की रणनीति तथा राज्यसत्ता के दो रूपों - जनतंत्र एवं तानाशाही - को अलगाकर देखने की माँग है और आठवाँ अध्याय दूसरे विश्वयुद्ध के बाद एशियायी क्रांति के संदर्भ में लेनिन की स्थापनाओं को गंभीरता से न लेने के कारण साम्राज्यविरोधी आंदोलन में विघटन का गंभीर विश्लेषण करता है। संक्षेप में कहें तो डॉ. शर्मा की यह कृति विश्व पूँजीवाद और उसके सर्वग्रासी आर्थिक साम्राज्यवाद के विरुद्ध मार्क्सवादी समाज-चिंतन की रोशनी में विश्वव्यापी पिछड़े समाजों के दायित्व पर दूर तक विचार करती है, ताकि समस्त मनुष्य-जाति को विनाश से बचाया जा सके।
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Selected pages

Contents

Section 1
1
Section 2
12
Section 3
13
Section 4
15
Section 5
17
Section 6
65
Section 7
75
Section 8
78
Section 23
255
Section 24
272
Section 25
283
Section 26
286
Section 27
296
Section 28
315
Section 29
322
Section 30
343

Section 9
80
Section 10
84
Section 11
115
Section 12
117
Section 13
128
Section 14
131
Section 15
172
Section 16
174
Section 17
185
Section 18
189
Section 19
192
Section 20
239
Section 21
247
Section 22
249
Section 31
348
Section 32
365
Section 33
392
Section 34
412
Section 35
421
Section 36
426
Section 37
447
Section 38
466
Section 39
512
Section 40
520
Section 41
521
Section 42
525
Section 43
533

Common terms and phrases

अपनी अपने आगे इतिहास इन इस इसके इसलिए उत्पादन उनकी उनके उन्हें उन्होंने उप उस उसका उसकी उसके उसे एंगेल्स ने एक ओर और कर करना करने कहा का का विकास काम कायम कारण किन्तु किया किसान किसानों किसी की कुछ के बाद के लिए केवल को कोई कौटिल्य क्रान्ति गया गये चाहिए जनतंत्र जनता जब जर्मनी जिस जो डिक्टेटरशिप तक तब तरह तो था था कि थी थे दिया देश देशों दो दोनों द्वारा धर्म नहीं है ने लिखा पर पहले पार्टी पूंजी पूंजीवादी पृ फिर बड़े बहुत बात भाग भारत भी भूमि भूमिका भेद मजदूरों मार्क्स माल में यह या यूनान ये रहा रहे राज्यसत्ता रूप में रूस रोमन लिखा था लेनिन ने लोग वर्ग वह वे व्यवस्था व्यापार संपत्ति सकता सत्ता सबसे सभी समय समाज सर्वहारा सामन्ती सामाजिक से हम ही हुआ हुई हुए हेगल है और है कि हैं हो होगा होता है होती होने

About the author (2009)

डॉ रामविलास शर्मा 10 अक्तूबर सन् 1912 को ग्राम ऊँचगाँव सानी, जिला-उन्नाव (उत्तर प्रदेश) में जन्मे रामविलास शर्मा ने 1932 में बी.ए., 1934 में एम.ए. (अंग्रेजी), 1938 में पी. एच. डी. (लखनऊ विश्वविद्यालय) की उपाधि प्राप्त की ! लखनऊ विश्वविद्यालय के अंग्रेजी विभाग में पाँच वर्ष तक अध्यापन-कार्य किया ! सन 1943 से 1971 तक आगरा के बलवंत राजपूत कॉलेज में अंग्रेजी विभाग के अध्यक्ष रहे ! बाद में आगरा विश्वविद्यालय के कुलपति के अनुरोध पर के.एम. हिन्दी विद्यापीठ के निदेशक का कार्यभार स्वीकार किया और 1974 में अवकाश लिया। सन 1949 से 1953 तक रामविलासजी अखिल भारतीय प्रगतिशील लेखक संघ के महामंत्री रहे ! देशभक्ति तथा मार्क्सवादी चेतना रामविलास जी की आलोचना की केन्द्र-बिन्दु है। उनकी लेखनी से वाल्मीकि तथा कालिदास से लेकर मुक्तिबोध तक की रचनाओं का मूल्यांकन प्रगतिवादी चेतना के आधार हुआ। उन्हें न केवल प्रगति-विरोधी हिन्दी-आलोचना की कला एवं साहित्य-विषयक भ्रान्तियों के निवारण का श्रेय है, वरन् स्वयं प्रगतिवादी आलोचना द्वारा उत्पन्न अन्तर्विरोधों के उन्मूलन का गौरव भी प्राप्त है। साहित्य अकादेमी का पुरस्कार तथा हिन्दी अकादेमी, दिल्ली का शताब्दी सम्मान से सम्मानित। देहावसान: 30 मई, 2000।

Bibliographic information