Magahī sāhitya kā itihāsa

Front Cover
Contributed articles on the history and development of Magahi literature; covers the period, 8th to 20th century.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अत अनेक अपनी अपने अल इतिहास इन इनके इस इसका इसके इसमें इसी उनका उनके उन्होंने उपन्यास उस उसके एक एवं ऐसे और कर करता करते करने कल कविता कहानी क्या का का नाम कारण काल किया किया गया किया है की के लिए के साथ को गई गया है जा जाता है जाती जी जीवन जो तक तथा तो था थी द्वारा दिया दो नहीं नाटक नि ने पटना पत्रिका पद पर परम्परा प्रकार प्रकाशन प्रयोग पाही पाही के बन बाद बिहार भारत भारतीय भाषा भी भोजपुरी मगध मगही मगही के मल माना मिलता है में में भी यम यर यल यह यहीं या ये रचना रहा है रही रहे रा राम रूप में लोक वर्मा वि विकास वे शती श्री सकता समय समाज सामाजिक साहित्य के सिख सिखों से हिन्दी ही हुअ हुआ हुई है और है कि हैं हो होता है होती होने

Bibliographic information