Bharatiya Darshan Indian Philosophy

Front Cover
Motilal Banarsidass Publishe, 2008 - 292 pages
 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

ashish

Contents

Section 1
1
Section 2
23
Section 3
50
Section 4
62
Section 5
75
Section 6
98
Section 7
126
Section 8
145
Section 9
181
Section 10
197
Section 11
217
Section 12
267
Section 13
279
Section 14
286

Other editions - View all

Common terms and phrases

अत अथवा अनुमान अन्य अपने अर्थात् अस्तित्व आत्मा आदि इन इस तरह इसका इसके इसी इसीलिए इसे ईशवर ईश्वर उत्पन्न उनके उपनिषद उल्लेखनीय है कि उसे एक एवं कर करता है करते करना करने कर्म कहते है कि कहा गया है का का अर्थ कारण कार्य किया किसी की कुछ के अनुसार के कारण के लिए केवल को कोई गये चार्वाक जगत् जा जाता है जीव जैसे ज्ञान तक तथा तो था थे दर्शन के दर्शन में दार्शनिक दो दोनों धर्म नहीं है ने पदार्थ पर पुरुष प्रकार प्रकृति प्रत्यक्ष प्रमाण बहा बुद्ध बौद्ध ब्रह्म भी मीमांसा मुक्ति मैं मोक्ष यदि यर यह यहॉ या ये रहता रामानुज रूप में वस्तु वह विचार वे वेद वेदान्त वेदों वैशेषिक शब्द शरीर सकता सत्य सभी सांख्य सिद्धान्त से स्वीकार हम ही हुआ हुए हे हेतु है और है कि है किन्तु है जो हैँ हो होता है होती होते होने

Bibliographic information