Kāmatāprasāda Gurū śatī-smr̥ti-grantha

Front Cover
Nāgarīpracāriṇī Sabhā, 1977 - Hindi language - 312 pages
Commemoration volume brought out on the birth centenary of Kamta Prasad Guru, 1875-1949, Hindi grammarian; comprises articles on Hindi grammar.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

18 other sections not shown

Other editions - View all

Common terms and phrases

अंग्रेजी अधिक अनेक अपनी अपने अभिव्यक्ति आदि इन इस इस प्रकार इसके इसी ई० उनके उन्होंने उर्दू उस उसका उसके एक एवं ऐसे कभी कर करते करना करने कर्ता कर्म कहा का का अर्थ कात्यायन कारक कारण किंतु किया किसी की कुछ के अनुसार के रूप में के लिये के साथ केवल को कोई क्रिया के क्रियाओं गई गए गया है चाहिए जब जा जाता है जाती जैसे जो तक तथा तो था थी थे दिया दूसरे दो दोनों द्वारा नहीं नाभिक नाम ने पर पाणिनि प्रकट प्रधान प्रयुक्त प्रयोग प्राकृत फारसी बहुत भारत भाषा भिन्न भी मुख्य यह यहाँ या ये रचना वह वाले विधेय विभक्ति विशेषण वे व्याकरण शब्द शब्दों संज्ञा संबंध संयुक्त संस्कृत सकता है समय सामान्य से स्थान हम हिंदी में हिदी ही हुआ हुई हुए है और है कि है है हैं हो सकता होता है होती होते हैं होने

Bibliographic information