Nutan Bhautiki Kosh

Front Cover
Prabhat Prakashan, Jan 1, 2009 - Physics - 240 pages
पहले भौतिकी के अंतर्गत ऊष्मा, प्रकाश, ध्वनि, विद्युत् तथा चुंबकत्व जैसे विषयों का ही अध्ययन-अध्यापन होता रहा है; किंतु बीसवीं सदी के उत्तरार्द्ध में खगोलिकी, इलेक्ट्रानिकी एवं अब नैनो टेकोलॉजी जैसे नए-नए विषयों पर बल दिया जाने लगा है। फलस्वरूप भौतिकी के एक ऐसे कोश की आवश्यकता अनुभव की जाती रही थी, जिसमें समग्र भौतिकी का समावेश हो।

'नूतन भौतिकी कोश' ऐसा ही कोश है, जिसमें भौतिकी के पारिभाषिक शब्दों की सरल, सुस्पष्ट एवं प्रामाणिक परिभाषाएँ दी गई हैं।

इस कोश की विशेषता है स्थान-स्थान पर चित्रों तथा आरेखों का समावेश।

विश्वास है, यह कोश विज्ञान के छात्रों एवं अध्यापकों के लिए समान रूप से उपयोगी सिद्ध होगा।

 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

physics read

User Review - Flag as inappropriate

Nutan Bhautiki kosh

Selected pages

Contents

Section 1
5
Section 2
6
Section 3
7
Section 4
48
Section 5
67
Section 6
89
Section 7
106
Section 8
114
Section 9
125
Section 10
132
Section 11
136
Section 12
149
Section 13
160

Common terms and phrases

अणु अथवा अधिक अनुपात अन्य अमेरिका अवस्था आयतन आवृति आवेश इम इस इसका इसे उक्ति उगे उत्पन्न उपजी उपयोग उब उस एक एवं और कण कम कर करके करता है करती करते करने के लिए कहते हैं का कारण कि किमी किया जाता है किसी की के चीज के रूप में के लिए को को जाता है कोण क्रिस्टल क्षेत्र गए गति गया घनत्व जब जल जा जाए जात जाती जाते हैं जिसका जिसके जिसमें जिसे जो डायोड तक तरंग तरल तरह ताप तो था दब दो द्वारा धारा ध्वनि नहीं नाभिक नाभिकीय नियम पकता है पका पकी पदार्थ पर परमाणु परिपथ परिवर्तन पृथ्वी प्रकाश प्राप्त बल बिद भी माध्यम मान मैं यदि यम यर यल यह या ये रा वन वने वल वस्तु वह विकिरण विकृति विशिष्ट वे वेग संबकीय से स्थिति ही है तथा हो होता है होती होते हैं होने

About the author (2009)

डॉ. शिवगोपाल मिश्र जन्म : 13 सितंबर, 1931। शैक्षणिक योग्यता : एमएस-सी., डीफिल, साहित्यरत्न। अध्यापन/शोधकार्य : पैंतीस वर्षों तक इलाहाबाद विश्वविद्यालय में परास्नातक कक्षाओं का अध्यापन, 40 डीफिल तथा 3 डी.एस-सी. शोधछात्रों का निर्देशन, 300 से अधिक मृदा विज्ञान विषयक शोधपत्र देश-विदेश के शोध जर्नलों में प्रकाशित। लेखन : लोकप्रिय विज्ञान की हिंदी में 27 तथा अंग्रेजी में 11 पुस्तकें प्रकाशित, 5 पाठ्य पुस्तकें भी प्रकाशित। वैज्ञानिक पुस्तकों के अतिरिक्त हिंदी की 9 साहित्यिक पुस्तकों का संपादन एवं लेखन। विज्ञान एवं सामाजिक विश्वकोश तथा रसायन कोश की रचना। संपादन : विज्ञान परिषद् प्रयाग द्वारा प्रकाशित त्रैमासिक शोध पत्रिका के सन् 1958 से प्रबंध संपादक संप्रति 'विज्ञान' मासिक पत्रिका के संपादक। सन् 1970-71 में 'भारत की संपदा' का संपादन। 'हिंदी में विज्ञान लेखन के 100 वर्ष' का संपादन। संप्रति भारत सरकार के सहयोग से 'विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी विश्वकोश' का संपादन कार्य चालू। सम्मान/पुरस्कार : हरिशरणानद पुरस्कार, विज्ञान सरस्वती, डी. आत्माराम पुरस्कार, विज्ञान भूषण, विज्ञान भास्कर, विज्ञान मार्तंड, अभिषेक श्री । विज्ञान परिषद् प्रयाग के आजीवन सदस्य तथा संप्रति प्रधानमंत्री भी । फेलो, राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, इलाहाबाद ।

Bibliographic information