Pali-Hindi Kosh

Front Cover
Rajkamal Prakashan, Jan 1, 2008 - 367 pages
 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

An useful book

Contents

Section 1
Section 2
Section 3
Section 4
Section 5
Section 6
Section 7
Section 8
Section 11
Section 12
Section 13
Section 14
Section 15
Section 16
Section 17
Section 18

Section 9
Section 10
Section 19
Section 20

Common terms and phrases

अत्यन्त अपने अव्यय आदमी आदि आसक्ति इस उत्पन्न ऊपर ओर और कर करके करता है करता है है करना करने वाला का का एक कारण किया किया गया किसी की की कथा कृदन्त के लिए को क्रि० वि० क्रिया क्रिया-विशेषण ग्रहण जा जातक जाता है जाना जाने जिसका जिसके जिसे जो तक तथा तरह था दिन दिया देखो देता है देना देने दो द्वारा धर्म न११० नदु० नप नपु० नपू० नपूँ० नल नष्ट नस नहीं नहुं० नाम नारि नीचे ने पर परि पालि पीछे पु पु० पु० तथा पु० है पुत्र पूर्व० क्रिया प्र प्रकार प्राप्त बाहर भी भोजन में से एक यह या योग्य रहता है राजा रूप लिया ले वह वाला है वाली वाले वि वि० है विचार विमा विशेष विष्णु वृक्ष शरीर शाक्य सके समय साथ स्थान स्वम् स्वय स्वी० हाथी ही हुआ हुआ है हुए हैं हो होता है होना होने

Bibliographic information