Vigyan ke manoranjak khel

Front Cover
Children's Book Trust, 1992 - Science - 78 pages
Magic of science.
 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

The book VIGYAN KE MANORANJAK KHEL is written by IVAR UTIAL only and B. G. VERMA is not a co-author as mentioned here.
B.G.Verma has made the illustrations & cover design of the book and is
associated with it as an artist only.
Even the spelling of author's name is not proper.It is IVAR UTIAL and not what is mentiond here.These mistakes must be corrected immediately.
Ashok kumar
 

Contents

Section 1
3
Section 2
14
Section 3
57
Section 4
67

Common terms and phrases

अंदर अच्छे अनावश्यक सामान अपनी अपने अब इतना इन इन्हें इम इस तरह इसके इसी इसे उसे एक ओर और फिर कम कर करके करना करने का कागज किसी की कुछ के ऊपर के लिये के साथ को गया गिलास गोल चम्मच चाहिये चुन छेद जगह जब जरूर जा जाता है जाती जाने जाये जायेगा जैसे जो ठीक तक तब तरफ तार तुम तुले तैयार तो था दूसरे देती दो दोनों ध्यान नजर नमक नल नली नहीं निकल नीचे पकी पर पहले पा पानी पानी में पाले प्रकाश प्रयोग बन बना बने बस बहुत बात बार बाहर बिलकुल बीच बोतल के भर भाग भी में यम यर यह यही या ये रंग रखना रहे रा लगभग ले वत वन वने वह वा वाम वाले वे सिरे सिर्फ से सेमी स्थिति ही हुई हुये है और है कि है है हैं हो होगा होता

Bibliographic information