Manak Hindi Ka Swaroop

Front Cover
Prabhat Prakashan, Jan 1, 1996 - 210 pages
हिंदी एक समर्थ भाषा है। उसका साहित्य भी संपन्न है, अब तो वह और भी संपन्न होता जा रहा है, किंतु अभी तक हिंदी भाषा का मानक रूप स्थिर नहीं हो पाया है। यही कारण है कि उच्चारण, वर्तनी, लेखन, रूपरचना, वाक्यगठन और अर्थ आदि सभी क्षेत्रों में पत्र-पत्रिकाओं, पुस्तकों, भाषणों एवं बातचीत में अमानक प्रयोग प्राय: मिलते हैं। इसी समस्या पर व्यापक रूप से विचार करने के उद्देश्य से यह पुस्तक लिखी गई है।

प्रारंभ में मानक भाषा और उसके प्रकारों को लिया गया है, ताकि मानक हिंदी को ठीक परिप्रेक्ष्य में समझा जा सके। किसी भाषा की मानकता-अमानकता काफी कुछ उसकी बेलियों से जुड़ी होती है, अत: हिंदी के क्षेत्र और उसकी बोलियों को लेना पड़ा है। फिर हिंदी के मानकीकरण का इतिहास देते हुए हिंदी में नागरी लिपि और अंकों, हिंदी के संख्यावाचक शब्दों, हिंदी उच्चारण, हिंदी संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, क्रिया तथा क्रिया विशेषण के रूपों, हिंदी वाक्य-रचना, हिंदी में प्रयुक्त शब्दों और उनके अर्थ, हिंदी की प्रयुक्तियों तथा शैलियों आदि पर मानकता की दृष्टि से विचार किया गया है। अंत में परिशिष्ट में मानक-अमानक प्रयोगों के कुछ उदाहरण हैं।

इस प्रकार प्रस्तुत पुस्तक में हिंदी भाषा के मानक स्वरूप पर अपेक्षित विस्तार से प्रकाश डाला गया है। यह पुस्तक हिंदी भाषा और भाषा-विज्ञान में रुचि रखनेवाले लेखकों, संपादकों, पाठकों और विद्यार्थियों आदि सभी वर्ग के लोगों के लिए पठनीय एवं संग्रहणीय है।

 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

I am pleased to read this book. It is comprehensive and useful.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3
Section 4
Section 5
Section 6
Section 7
Section 8
Section 11
Section 12
Section 13
Section 14
Section 15
Section 16
Section 17
Section 18

Section 9
Section 10
Section 19
Section 20

Other editions - View all

Common terms and phrases

अंग्रेजी अथवा अधिक अन्य अपने अब अर्थ अवधी आदि इन इस इसका इसके इसी उच्चारण उत्तर प्रदेश उर्दू उस उसके एक और कई कर करते हैं करने कहते का प्रयोग काफी काम किंतु किन्तु किया किसी की कुछ के बाद के लिए के साथ के स्थान पर केवल को कोई क्रिया गई गए गया है चाहिए जाता है जाती जैसे जो तक तथा तरह तुम तो था थे देने दो दोनों द्वारा नहीं है ने पर पहले पूर्व प्रकार प्रदेश प्रयुक्त प्राय फारसी बहुत बात बिहार बोली भारत भाषा भाषा के भोजपुरी मानक मानक भाषा में भी मैं यदि यह यहाँ या ये यों रहा है रहे राम रूप में लोगों वर्तनी वह वे व्यंजन शब्द शब्दों संस्कृत सभी से हम हिंदी के हिंदी में ही हुआ है और है कि है है हो होता है होती होते हैं होने

About the author (1996)

डॉ. भोलानाथ तिवारी (4 नवंबर, 1923-25 अक्टूबर, 1989) गाजीपुर (उ.प्र.) के एक अनाम ग्रामीण परिवार में जनमे डॉ. तिवारी का जीवन बहुआयामी संघर्ष की अनवरत यात्रा थी, जो अपने सामर्थ्य की चरम सार्थकता तक पहुँची। बचपन से ही भारत के स्वाधीनता-संघर्ष में सक्रियता के साथ-साथ अपने जीवन-संघर्ष में कुलीगिरी से आरंभर करके अंतत: प्रतिष्ठति प्रोफेसर बनने तक की जीवंत जययात्रा डॉ. तिवारी ने अपने अंतरज्ञान और कर्म में अनन्य आस्था के बल पर गौरव सहित पूर्ण की। हिंदी के शब्दकोशीय और भाषा-वैज्ञानिक आयाम को समृद्ध और संपूर्ण करने का सर्वाधिक श्रेय मिला डॉ. तिवारी को। भाषा-विज्ञान हिंदी भाषा की संरचना, अनुवाद के सिद्धांत और प्रयोग, शैली-विज्ञान, कोश-विज्ञान, कोश-रचना और साहित्य-समालोचन जैसे ज्ञान-गंभीर और श्रमसाध्य विषयों पर एक से बढ़कर एक प्राय: 88 ग्रंथ-रत्नों का सृजन कर उन्होंने कृतित्व का कीर्तिमान स्थापित किया। कुछ 66 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया।

Bibliographic information