Bharatiya Darshan Aalochan Aur Anusheelan

Front Cover
Motilal Banarsidass Publishe, 1998
 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

मेरो अध्ययन

User Review - Flag as inappropriate

Very helpful

Contents

Section 1
Section 2
Section 3
Section 4
Section 5
Section 6
Section 7
Section 8
Section 15
Section 16
Section 17
Section 18
Section 19
Section 20
Section 21
Section 22

Section 9
Section 10
Section 11
Section 12
Section 13
Section 14
Section 23
Section 24
Section 25
Section 26
Section 27

Other editions - View all

Common terms and phrases

अत अनुभव अन्य अपने अर्थात् अविद्या असत् आचार्य आत्मा आदि इन इस ईश्वर उत्पन्न उनके उपनिषद उसका उसके उसे एक एवं कर करता है करते करना करने कर्म कहते कहा का का अर्थ कार्य किन्तु किया है किसी की कुछ के अनुसार के रूप में के लिये के समान केवल को कोई गया है गुण जगत् जब जा जाता है जीव तत्व दर्शन दो दोनों द्रव्य द्वारा धर्म नहीं है नहीं होता नित्य निर्वाण ने पदार्थ पदार्थों पर परमार्थ पुरुष प्रकार प्रकाशित प्रतीत प्रत्यक्ष बुद्धि ब्रह्म भिन्न भी भेद भ्रम मत मानते है मेँ मोक्ष यदि यह या ये रहता है रा रामानुज वस्तु वह वाराणसी विज्ञान विज्ञानवाद विषय वे वेद वेदान्त वैशेषिक व्यवहार शब्द शरीर शिव शुद्ध सत् सत्य समस्त सांख्य साथ सिद्ध सृष्टि से स्वयं स्वीकार ही है और है कि है क्योंकि है जो है तथा है तो हैँ होता है होती होते

Bibliographic information