Hindu Dharma Vishwakosh

Front Cover
Prabhat Prakashan, Jan 1, 2013 - Hinduism - 263 pages
हिंदू धर्म को सर्वाधिक प्राचीन और शाश्वत धर्म होने का गौरव प्राप्त है। भारत की लगभग तीन-चौथाई आबादी हिंदू धर्मावलंबी है। दुनिया के दूसरे देशों में भी हजारों हिंदू मतावलंबी रहते हैं। हिंदू धर्म का कोई संस्थापक नहीं है, न ही इसका प्रतिपादन किसी एक व्यक्ति अथवा ईश्वर द्वारा हुआ है—जैसा कि पहले ही कहा गया है—यह शाश्वत धर्म है। हिंदू धर्म में लोग अनेक देवी-देवताओं की पूजा करते हैं। यह इस धर्म की विविधता, उदारता और उदात्तता है कि इसमें नदियों, वृक्षों और पर्वतों को भी देवी-देवताओं की भाँति पूजा जाता है। पूजा, प्रार्थना, आराधना, स्तुति—मार्ग के अंतिम और सर्वोच्च पड़ाव हैं, इसलिए हिंदू धर्म ग्रंथ मोक्ष-प्राप्ति के उपायों से भरे पड़े हैं।

प्रस्तुत विश्वकोश हिंदू-धर्म के बारे में व्यापक रूप से प्रकाश डालता है। इससे हिंदू-धर्म के बारे में अब तक अज्ञात कई विषयों के बारे में जानकारी पाई जा सकती है। यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगा कि इस पुस्तक द्वारा हिंदू धर्म एवं उसकी संस्कृति को न केवल जाना जा सकता है वरन् उसे सीखा भी जा सकता है। हिंदू धर्म के गौरव और श्रेष्ठता को रेखांकित और पुनर्स्थापित करनेवाली पठनीय कृति।

 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

mQ
56
67
87
N
106
lanHkZ xzaFk
264

Common terms and phrases

अनेक अपनी अपने अर्थ आदि इंद्र इनका इनकी इनके इन्होंने इसका इसके इसमें इसी इसे उत्पन्न उनके उन्हें उपनिषद् उसे ऋषि एवं और कर करता करते करना करने कहते हैं कहा गया है कहा जाता है का का एक का नाम काल किसी की कुछ कृष्ण के अनुसार के कारण के रूप में के लिए के साथ को गई गए गुरु ग्रंथ चार जन्म जब जहाँ जाती जाते हैं जीवन जो ज्ञान तक तथा तीर्थ तो था थी थे दर्शन दिन दिया देवताओं दो द्वारा धर्म नहीं ने पत्नी पर पुराण प्रसिद्ध प्राचीन प्राप्त बाद ब्रह्मा भगवान् भारत भी मंदिर महाभारत माना में यह यहाँ या ये राजा रामायण रावण लिया वर्ष वसिष्ठ वह विवाह विष्णु वे वेद वेदांत शक्ति शब्द शरीर शिव श्रीकृष्ण संस्कृति सभी समय से स्थान स्थित हिंदू ही हुआ था हुई हुए है और है कि हैं हो होता है होती होते हैं होने

About the author (2013)

हिंदी के प्रतिष्ठित लेखक महेश शर्मा का लेखन कार्य सन् 1983 में आरंभ हुआ, जब वे हाईस्कूल में अध्ययनरत थे। बुंदेलखंड विश्वविद्यालय, झाँसी से 1989 में हिंदी में स्नातकोत्तर। उसके बाद कुछ वर्षों तक विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं के लिए संवाददाता, संपादक और प्रतिनिधि के रूप में कार्य। लिखी व संपादित दो सौ से अधिक पुस्तकें प्रकाश्य। भारत की अनेक प्रमुख हिंदी पत्र-पत्रिकाओं में तीन हजार से अधिक विविध रचनाएँ प्रकाश्य। हिंदी लेखन के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए अनेक पुरस्कार प्राप्त, प्रमुख हैं—मध्य प्रदेश विधानसभा का गांधी दर्शन पुरस्कार (द्वितीय), पूर्वोत्तर हिंदी अकादमी, शिलाँग (मेघालय) द्वारा डॉ. महाराज कृष्ण जैन स्मृति पुरस्कार, समग्र लेखन एवं साहित्यधर्मिता हेतु डॉ. महाराज कृष्ण जैन स्मृति सम्मान, नटराज कला संस्थान, झाँसी द्वारा लेखन के क्षेत्र में ‘बुंदेलखंड युवा पुरस्कार’, समाचार व फीचर सेवा, अंतर्धारा, दिल्ली द्वारा लेखक रत्न पुरस्कार इत्यादि। संप्रति : स्वतंत्र लेखक-पत्रकार।

Bibliographic information