Sanskrit-Hindi Kosh Raj Sanskaran

Front Cover
Motilal Banarsidass Publishe, 2007 - 1362 pages

(Romanised in English): Sanskrit se hindi main abhi tak koi accha kosh uplabdh nahin tha. Jo do-ek uplabdh bhi hai unmain bahut thode he shabdon ko sthan diya gaya hai jisse viddharthiyon ki awashyaktaein puri nahin hoti. Inke mulya bhi itne adhik hai ki sadharan sanskrit viddharthi ko kharidana kathin ho jata hai. Iska abhave bahut dinon se khatak raha tha. Ant mainApte ki 'students Sanskrit English Dictionary' ka he anuvad prastut karne ke yojana nishchit ki gayee. prastut kosh usi yojana ka parinam hai. Is kosh main kul lagbhag 70,000 shabda hain jinmein lagbhag 10000 shabda naye sire se liye gaye hai jinhe shri Vaman Shivram Apte ne apne sanskran main nahin liya tha. Is tarah se yeh kosh ek bahut badi kami ki purti karta hai.

From inside the book

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

I am amazed to see Sanskrit dictionary as I have seen it for the first the time.
I found it to be very useful.

User Review - Flag as inappropriate

शुभाशीष

All 5 reviews »

Common terms and phrases

अग्नि अधिक अपने अर्थ अव्य० आदि इन्द्र इस उत्पन्न ऊपर एक प्रकार का और कर करता करना करने के करने वाला का का अभाव का एक का नाम काम कामदेव कारण कार्य किसी की की ओर कु० कुछ कुल के रूप में के लिए के साथ को कोई चन्द्रमा जाता है जाना जिसका जिसके जैसा कि जैसे जो तथा तो द० दिया दूसरे दे० देना देवता द्वारा न हो न० त० न० ब० नक्षत्र नहीं निकट नीचे ने पर प्रकट प्रकार प्रा० स० प्राप्त प्राय बहुत बिना ब्रह्मा भाग भी भू० क० कृ० मनु० में में से यह या योग्य रखने वाला रघु० राजा रूप से लेना वस्तु वह वा वि० विप० विमा विशेष विष्णु वृक्ष श० शब्द शरीर शि० शिव सम० समय समास सूर्य से स्थान स्वी० ही हुआ हुई हुए है हैं होना होने

Bibliographic information