आचार्य रघुवीर: Acharya Raghuveer

Front Cover
Prabhat Prakashan, Feb 20, 2015 - Biography & Autobiography - 168 pages
On the life and work of Acharya Raghuvīra, 1902-1963, indologist.
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
1905
Section 2
Section 3
Section 4
Section 5
Section 6
Section 7
Section 8
Section 9
Section 10
Section 11
Section 12
Section 13
Section 14
Section 15
Section 16

Common terms and phrases

अंग्रेजी अत अध्ययन अनेक अन्य अपनी अपने आए आचार्य रघुवीर आचार्यजी ने आज आदि आरंभ इंडोनेशिया इन इस उनका उनकी उनके उन्हें उन्होंने उस एक एवं ओर और कर करते थे करना करने कहा का कार्य कि किया किसी की कुछ के लिए के साथ केवल को कोई गई गए गया ग्रंथ चाहिए चीन चीनी जनता जब जा जाता जाते जापान जीवन जो ज्ञान डॉ तक तथा तिब्बत तो था था कि थी थीं थे दिया देश की देशों दो द्वारा धर्म नहीं नागपुर नाम पंजाबी पर परंतु प्रकार प्रो बर्मा बार भारत भारत के भारतीय भाषा भाषाओं भी मंगोल महाभारत में यदि यह यूरोप ये रहा रामायण लाख लाहौर लिपि वर्ष वह वहाँ विद्वानों विद्वान् वे शब्द शब्दों शासन शिक्षा श्रीलंका संस्कृत सब सभी समय सरस्वती विहार सांस्कृतिक साहित्य से सेना सैनिक स्थान स्वतंत्रता हम हमारी हमारे हिंदी ही हुआ है है कि हैं हो

About the author (2015)

डॉ. शशिबाला पिछले 38 वर्षों से आचार्य रघुवीरजी द्वारा स्थापित संस्था ‘सरस्वती विहार’ में उनके सुपुत्र डॉ. लोकेश चंद्रजी के सान्निध्य में अनुसंधान कार्य कर रही हैं। उन्होंने 15 वर्षों तक राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान, नई दिल्ली में दक्षिण-पूर्व एशिया के देशों तथा जापान की कला का इतिहास पढ़ाया है। उन्होंने इंडोनेशिया से प्राप्त ‘संस्कृत व्याकरण खंड’, ‘जापान में वैदिक देवता’, ‘तत्त्वसंग्रह’ तथा ‘वज्रधातुमंडल’, ‘जापानी कला का इतिहास’, ‘Buddhist Art’, ‘In Praise of the Divine’, ‘Divine Art’, ‘Manifestations of Buddhas’ आदि पुस्तकें तथा एशिया के देशों के कला-इतिहास तथा संस्कृति, संस्कृत, भारतीय लिपियों, दर्शन एवं संस्कार आदि विषयों पर पचपन अनुसंधान लेख तथा अनेक लघु लेख लिखे हैं, जो देश तथा विदेश की अनेक पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों में प्रस्तुत किए गए हैं।
यूरोप और एशिया के विभिन्न देशों की अनेक बार यात्राओं के समय उन्होंने विदेशी विश्वविद्यालयों में, गोष्ठियों में तथा आकाशवाणी बी.बी.सी. से भाषण प्रस्तुत किए हैं। भारतीय संस्कृति का विदेशों में प्रचार करने वाले महान् आचार्यों में से कुमारजीव तथा अतीश पर उनके द्वारा आयोजित अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन एवं प्रदर्शनियों का बृहत् रूप से स्वागत हुआ है।

Bibliographic information